Fernweh

Birds were

returning home

sun hid somewhere

in the clouds

And I sat there

watching

dusk turning to dawn

while my heart ached

furthest away

longing for unknown,

gazing stars,

triggered within me

a distant yearning,

for places

I have never been

and the sunrise that morning

witnessed my whole being

entrapped in a feeling of

“fernweh”

37 thoughts on “Fernweh

          1. मुझे तब भी पूर्णता दिखी थी बंधु आप ऐसे दिल से न लिजिए मैंने बस ऐसे ही कहा था। अभी तो आपने चार चाँद लगा दिया है। अद्भुत श्रृंगार अत्युत्तम कृति बंधु👌👌👌

            Liked by 1 person

            1. areey nahi mujhe ni dikhi thi ar mujhe bohot achha laga ki jo incomplete maine feel ki thi wo kisi ar ne bhi ki ni to most important line hi missing thi jis word pe maine poem likhi thi wo word hi missing thi
              Thank you so much 🙏❤

              Liked by 1 person

            2. अभी तो पूर्ण हो गया बंधु। भाव भी अब उभर के आ रहे हैं। तभी तो कहा आपको आप शब्दों से बहुत अच्छा खेलती हैं। आप निःसंदेह बहुत अच्छा लिखते हैं। मैं तो बस हिंदी लेखन करता पर अंग्रेजी थोड़ी बहुत पढ़ लेता हूँ। कोई गलती हो तो क्षमा ज़रूर करिएगा। 🙏

              Liked by 1 person

            3. यह बात न कहिये मैं तो आपकी तरह कभी अंग्रेजी में लिख नहीं पाऊंगा पर आप मेरी तरह हिंदी बहुत अच्छा लिख सकती है। आप प्रयास करिये। मैं अवश्य पढ़ना चाहूंगा। 🌼🌼

              Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s